Jamia में इन टीचर्स को सम्मान, VC ने की विवि से रिश्ता रखने की गुजारिश

टीचर्स डे के मौके पर जामिया टीचर्स एसोसिएशन (JTA) ने पिछले दो साल में यूनिवर्सिटी से रिटायर हुए 39 अध्यापकों को सम्मानित किया. जामिया की कुलपति प्रो नजमा अख्तर ने इन रिटायर शिक्षकों से यूनिवर्सिटी से जुड़े रहने की गुजारिश की.

समारोह में विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो नजमा अख़्तर ने टीचर्स को सम्मानित किया. इस मौके पर जामिया स्कूल ने वृक्षारोपण मुहिम के ज़रिए टीचर्स डे मनाया है. विश्वविद्यालय के डॉ. एमए अंसारी सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम की मुख्य अतिथि और जामिया की कुलपति प्रो नजमा अख़्तर ने कहा कि जेटीए ने इस पावन मौके पर रिटायर हुए अध्यापकों को सम्मानित करके बहुत सराहनीय काम किया है.

इन अध्यापकों से कुलपति ने आग्रह किया कि वे विश्वविद्यालय के साथ अपना रिश्ता बनाए रखें और जामिया की बेहतरी के लिए उनके सुझावों का हमेशा स्वागत किया जाएगा. उन्होंने इन अध्यापकों से, अगले साल मनाए जाने वाले विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में शामिल होने का भी आग्रह किया है.

यह भी पढ़ें   लखनऊ: फर्जी पासपोर्ट के साथ एयरपोर्ट पर बांग्लादेशी नागरिक गिरफ्तार

जेटीए के सचिव प्रो माजिद जमील ने कहा कि जामिया मिल्लिया इस्लामिया के संस्थापकों ने बहुत मुश्किलों का सामना करते हुए और बड़े बलिदान करके इस विश्वविद्यालय को स्थापित किया है.

उन्होंने कहा कि उनके बलिदानों को याद करते हुए जामिया बिरादरी को और बुलंदियों की तरफ ले जाने के लिए लगातार काम करते रहना है. पिछले दो सालों में 39 फैकल्टी मेंबर रिटायर हुए हैं और टीचर्स डे पर उन्हें सम्मानित करना, सबसे सही दिन है.

इस मौके पर जेटीए के सचिव के अलावा अध्यक्ष आमिर आज़म, संयुक्त सचिव डा इरफान कुरैशी और अन्य पदाधिकारी मौजूद थे. इसके अलावा, जामिया सीनियर सेकण्डरी स्कूल ने अपने परिसर में वृक्षारोपण मुहिम के ज़रिए टीचर्स डे मनाया. ऐसा करके स्कूल छात्रों ने जामिया के आदर्श सिद्धांत, ‘ग्रीन जामिया, क्लीन जामिया‘ के तहत, पर्यावरण को बचाने की जागरूगता को फैलाने का काम किया. स्कूली छात्र हाथों में तख़्तियां लिए थे, जिन पर पर्यावरण को बचाने के लिए, बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण करने और वनों को बचाने की अहमियत के बारे में बताया गया था. वृक्षारोपण के लिए पौधे लगाने में प्रो इलियास हुसैन, प्रो मसूद आलम, प्रो जैसी अब्राहम, प्रो अतिक़ुर रहमान, प्रो वसीम खान और डा अब्दुल नसीब खान शामिल थे.