अहं ब्रह्मास्मि: संस्कृत में बनी पहली फिल्म का वाराणसी में प्रीमियर

उत्तर प्रदेश में ये पहला मौका है जब बड़े पर्दे पर मल्टीप्लेक्स में संस्कृत भाषा की फीचर फिल्म का प्रीमियर हुआ. फिल्म का नाम है “अहं ब्रह्मास्मि-ए मूवमेंट”. इस संस्कृत फिल्म का प्रीमियर धर्म और आध्यात्म की नगरी काशी के एक मल्टीप्लेक्स में हुआ.

वाराणसी में इस फिल्म का प्रीमियर इसलिए भी खास था क्योंकि मूवी की शूटिंग ज्यादातर हिस्सा वाराणसी, प्रयागराज, दिल्ली, मुंबई और देश के अन्य शहरों में हुई है. 105 मिनट की बनी फिल्म का मकसद है संस्कृत का उत्थान और युवाओं को संस्कृत भाषा के प्रति जागरूक करना है.

वाराणसी में फिल्म का प्रीमियर शो देखने के लिए सैकड़ों की संख्या में दर्शक पहुंचे. संस्कृत भाषा में फिल्म देखने के लिए दर्शक मानते हैं कि बड़े पर्दे पर संस्कृत भाषा में फिल्म आने से संस्कृत भाषा को भी बढ़ावा मिलेगा. दर्शकों का कहना है कि हमारे देश में संस्कृत भाषा को देवों और ऋषियों की भाषा कहा जाता है. प्रीमियर से फिल्म बड़ी संख्या में लोगों के बीच में पहुंचेगी तो काफी फायदेमंद होगा.

View this post on Instagram

#TheBombayTalkiesStudios Invites You for the #Premiere Of #FirstMainstream #SanskritFilm of World Cinema #AhamBrahmasmi #जयतुसंस्कृतम् #JayatuSanskritam #आज़ाद #Aazaad #SamskritaBharati #संस्कृतिभारती #PvrIcon #VasantKunj #delhi

A post shared by AAZAAD (@aazaad1947) on Sep 5, 2019 at 3:57pm PDT

फिल्म अभिनेता और निर्माता आजाद ने संस्कृत भाषा में पहली बार बनाई गई फिल्म “अहं ब्रह्मास्मि-ए मूवमेंट” को लेकर भी बातचीत की. उन्होंने बताया- यह एक राष्ट्रवादी फिल्म है. ये चंद्रशेखर आजाद के जीवन काल पर बनाई गई है. इस फिल्म के आने के बाद संस्कृत भाषा को बढ़ावा तो मिलेगा ही लेकिन इसके साथ ही हमारे पूर्वजों की भाषा को एक नई पहचान भी मिलेगी.

निर्माता आजाद का दावा है कि हॉलीवुड और बॉलीवुड की तरह ही आने वाले दिनों में संस्कृत भाषा की फिल्मों को भी पसंद किया जाएगा. वहीं वेद स्कूलों से आई प्राचार्या नंदिता शस्त्री ने भी इस फिल्म की बहुत प्रशंसा की और बताया कि संस्कृत भाषा को व्यवहार में लाने की भी जरूरत है.

यह भी पढ़ें   दिल्ली: चोरी के शक में 44 साल की महिला की पीट-पीटकर हत्या

Leave a Reply