PM मोदी ने शी जिनपिंग को दी ये अनूठी पेंटिंग, जिसे बनाने में लगे 45 दिन

  • भारत के दो दिवसीय दौरे पर आए हैं चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग
  • मोदी ने तोहफे में दिए तंजावुर की पेंटिंग और बेहद खास लैंप

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग शुक्रवार को अपने दो दिवसीय दौरे पर भारत आए. उनका विमान चेन्नई एयरपोर्ट में लैंड किया, जहां से वो तमिलनाडु के महाबलीपुरम पहुंचा. चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग का महाबलीपुरम में भव्य स्वागत किया गया. चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग का स्वागत करने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद महाबलीपुरम पहुंचे. पीएम मोदी ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को पहले तीर्थस्थलों की सैर कराई और फिर गिफ्ट दिया.

पीएम मोदी ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को गिफ्ट में तंजावुर की पेंटिंग (डांसिंग सरस्वती) और नचियारकोइल-ब्रांच अन्नम लैंप दिया. दोनों नेताओं ने शोर मंदिर परिसर में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में हिस्सा लिया और लोकनृत्य का आनंद लिया. पीएम मोदी ने तंजावुर की जिस पेंटिंग को चीनी राष्ट्रपति को गिफ्ट दिया, उसमें सरस्वती की तस्वीर बनी है. इस पेंटिंग को बी लोगनाथन ने तैयार किया है. इसको तैयार करने में 45 दिन का समय लगा.

यह भी पढ़ें   दिल्ली में बिगड़ी एयर क्वालिटी, 32 फ्लाइट डायवर्ट, नोएडा में स्कूल बंद

क्यों खास है तंजावुर की पेंटिंग?

तंजावुर की पेंटिंग को पालागई पदम के नाम से भी जाना जाता है. यह लकड़ी पर की जाने वाली काफी पुरानी पेंटिंग है. तमिलनाडु के तंजौर शहर के नाम पर इस पेंटिंग का नाम भी तंजावुर पड़ा. माना जाता है कि यह 16वीं शताब्दी में नायक और मराठा शासकों के शासन के दौरान उभरकर आई. 17वीं सदी में मराठा शासन में इस कला को नया प्रोत्साहन और संरक्षण मिला. तंजावुर पेंटिंग में हिंदू देवी-देवाओं और संतों की तस्वीर देखने को मिलती हैं.

नचियारकोइल-ब्रांच अन्नम लैंप

पीएम मोदी ने तंजावुर की पेंटिंग के अलावा चीनी राष्ट्रपति को नचियारकोइल-ब्रांच अन्नम लैंप गिफ्ट किया. इसको 8 मशहूर कलाकारों ने मिलकर बनाया है. छह फीट ऊंचे और 108 किलोग्राम वजन के इस लैंप को पीतल से बनाया गया है, जिस पर सोने की परत चढ़ी है. इस लैंप को बनाने में 12 दिन का समय लगा. इस लैंप को सबसे पहले पैथर समुदाय के लोगों ने बनाया था. पैथर समुदाय के लोग साल 1857 में पहले नागरकोइल से त्रावणकोर आए थे और फिर नचियारकोइल आकर बस गए थे.