भारत की पाक को दो टूक, अयोध्या पर SC का फैसला हमारा आंतरिक मामला

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अयोध्या मामले पर फैसले की टाइमिंग को लेकर पाकिस्तान की नाराजगी जताने के बाद विदेश मंत्रालय का बयान सामने आया है। विदेश मंत्रालय ने इसे भारत का आंतरिक मामला बताया और इस तरह की टिप्पणी के लिए पाकिस्तान की निंदा की।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, 'हम एक सिविल मामले पर भारत के सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर पाकिस्तान की ओर से की गई अनुचित और गंभीर टिप्पणियों को अस्वीकार करते हैं। ये पूरी तरह से भारत का आंतरिक मामला है।' रवीश कुमार ने कहा, 'यह कानून के शासन और सभी धर्मों, अवधारणाओं के लिए समान सम्मान से संबंधित है, जो उनका मामला नहीं है।'

कुमार ने कहा, पाकिस्तान की समझ की कमी आश्चर्य की बात नहीं है। नफरत फैलाने के स्पष्ट इरादे के साथ हमारे आंतरिक मामलों पर टिप्पणी निंदनीय है। अयोध्या मामला कोई अंतराष्ट्रीय मुद्दा नहीं है। पाकिस्तान शायद इसे मुस्लिम-हिंदू के चश्मे से देख रहा हो। लेकिन भारत में सब शांति है। इस फैसले का सभी ने स्वागत किया है।

यह भी पढ़ें   महाराष्ट्र: शिवसेना बोली- 50-50 फॉर्मूले पर ही होगी बीजेपी से चर्चा, पवार से मिले संजय राउत

बता दें कि पाकिस्तान के पाक के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि जिस दिन करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन हो रहा है, उसी वक्त अयोध्या मामले पर फैसला सुनाया जा रहा है। कुरैशी ने कहा था, क्या अयोध्या मामले पर फैसले के लिए कुछ दिनों का इंतजार नहीं किया जा सकता था? इस तरह के खुशी के मौके पर असंवेदनशीलता देखकर मैं बेहद दुखी हूं।

पाकिस्तानी अखबार ‘द डॉन’ ने लिखा, 'भारत की सुप्रीम कोर्ट ने उस विवादित स्थल पर, जहां हिंदुओं ने 1992 में मस्जिद गिराई थी हिंदुओं के पक्ष में फैसला सुना दिया और कहा कि अयोध्या की जमीन पर मंदिर बनाया जाएगा। हालांकि, कोर्ट ने यह मान लिया कि 460 साल पुरानी बाबरी मस्जिद को गिराना कानून का उल्लंघन था। कोर्ट के फैसले (Ayodhya Verdict) से भारत के हिंदू-मुस्लिमों के बीच भारी हुए संबंधों पर बड़ा असर पड़ सकता है।'

.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.

यह भी पढ़ें   बादशाह ने बताया- 20 मिनट में बनकर ऐसे तैयार हुआ था डीजे वाले बाबू
.

...
Pathological compulsion’ to comment on internal affairs says India on Pak’s Ayodhya remarks
.
.

.

Leave a Reply